Monday, August 8, 2011

अवैध


हर जगह हर गली हर मोड 
बिना अपवाद 
पसरी हुई अवैधता.... 
क़ानून की किताबों या फिर पावन किताबों 
के किसी भी मानदंड के मुताबिक़ ....
अवैधता ही अवैधता...
  फिर भी......
भाव भंगिमाओं की चुगली करते 
 'सब चलता है ' के  इज़हार ..
न कोई पाप बोध न कोई कृतज्ञता ....

कुटिल निष्क्रियता...
मिथ्याबोध 
नित प्रति बढ़ती जाती 
अवैधता की अंतहीन सी लकीर 
ऐसे में दर किनार होते रहते
 मानवीय  सत्कर्म ....

ऐसे परिदृश्य में राजनीति के विदूषकों 
के हथकंडे और  घटिया कारनामें ...
नहीं  छटेगा यह गहराता कुँहासा  
इनसे समझौते करते जाने और 
सब कुछ चलता है की मनोवृत्ति से ...
खुद की  भी अवैध संलिप्तताओं  से ...

हर रोज कोई न कोई नया बखेड़ा 
स्थितियों को और बिगाड़ता 
फिजां को बर्बाद करता ....
और भी भ्रमित  करता जाता 
फिर भी ,लोगों में  संतुष्टि की अनुभूति 
आखिर किस प्रकार और कैसे ? 

अरे भद्रजनों ,आँखे खोलिए ..
कुछ तो  महसूस कीजिये ...
परिवेश के बिगड़ते हालात पर
 तनिक तो गंभीरता से सोचिये 
हमारा दिमाग अब भी साथ है हमारे 
नहीं हुआ है पूरी तरह से बर्बाद ...
हम अब भी छेड़ सकते हैं जिहाद 
काबू कर सकते हैं हालात को 
 और  हो सकते हैं  फिर से आबाद |
~ ज्योति मिश्रा
_______________________________________________________________
Illicit 
_________________________________________________

Share/Bookmark

18 comments:

  1. हम अब भी छेड़ सकते हैं जिहाद
    काबू कर सकते हैं हालात को

    बहुत प्रेरक एवं विलक्षण रचना...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  2. गज़ब रचना, विचारों का अनवरत प्रवाह शब्दों में ढल ढल यूँ ही उतरता रहे, यही ईश्वर से प्रार्थना है।

    ReplyDelete
  3. वाकई खुद की अवैध संलिप्तता भी दूर करनी होगी.

    ReplyDelete
  4. यथार्थ का सुन्दर वैचारिक प्रस्तुतिकरण...

    ReplyDelete
  5. satik likha hai vichar aur shabd dono acche hain...bahut accha likhte hain blog par aakar man ko accha laga...

    ReplyDelete
  6. अरे भद्रजनों ,आँखे खोलिए ..
    कुछ तो महसूस कीजिये ...
    परिवेश के बिगड़ते हालात पर
    तनिक तो गंभीरता से सोचिये
    हमारा दिमाग अब भी साथ है हमारे
    नहीं हुआ है पूरी तरह से बर्बाद ...
    हम अब भी छेड़ सकते हैं जिहाद
    काबू कर सकते हैं हालात को
    और हो सकते हैं फिर से आबाद |
    ~ ज्योति मिश्रा आशा वादी स्वर इस राजनीतिक बियाबान में जहां न कोई राज है न कोई काज ,"अंधेर नगरी चौपट राजा ,टके सेर भाजी ,टके सेर खाजा .बहुत सशक्त रचना ,हमारे दौर की ज़रुरत है यह आशा - वादी स्वर .
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    Wednesday, August 10, 2011
    पोलिसिस -टिक ओवेरियन सिंड्रोम :एक विहंगावलोकन .
    व्हाट आर दी सिम्टम्स ऑफ़ "पोली -सिस- टिक ओवेरियन सिंड्रोम" ?

    ReplyDelete
  7. उम्मीद का राग छेड़ती प्रस्तुति इस मोहभंग के बीच .
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    Wednesday, August 10, 2011
    पोलिसिस -टिक ओवेरियन सिंड्रोम :एक विहंगावलोकन .
    व्हाट आर दी सिम्टम्स ऑफ़ "पोली -सिस- टिक ओवेरियन सिंड्रोम" ?


    सोमवार, ८ अगस्त २०११



    What the Yuck: Can PMS change your boob size?

    http://sb.samwaad.com/
    ...क्‍या भारतीयों तक पहुंच सकेगी जैव शव-दाह की यह नवीन चेतना ?
    Posted by veerubhai on Monday, August ८
    .

    ReplyDelete
  8. हर रोज कोई न कोई नया बखेड़ा
    स्थितियों को और बिगाड़ता
    फिजां को बर्बाद करता ....
    और भी भ्रमित करता जाता
    फिर भी ,लोगों में संतुष्टि की अनुभूति
    आखिर किस प्रकार और कैसे ?

    एक विचारणीय प्रश्न और रचना में भावों का प्रवाह बहुत सशक्तता से हुआ है ....आशा है आपका लेखन यूँ ही अनवरत जारी रहेगा ...आपका आभार

    ReplyDelete
  9. रक्त पानी हो गया है
    क्या करें कैसे करें
    इंसान तो बस सो गया है।

    सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  10. भारत एक कुर्सी प्रधान देश हैं यहाँ का फलसफा है -हम भ्रष्टों के भ्रष्ट हमारे .यहाँ दो किस्म के लोग हैं ,एक वो जो पहले जेल जातें हैं ,वहां से योग्यता प्राप्त कर फिर कायदे क़ानून तोड़तें हैं ,भ्रष्टाचार को पोस्तें हैं .अन्ना को अन्दर अन्दर कोसतें हैं .रामदेव इतर साधू संतों को सलवार पह्नातें हैं उनकी उपाधियाँ चेक करतें हैं .खुद ओक्स्फोर्दिया नकली डिग्री लिए घूमतें हैं ."भावी प्रधान जी ,इस देश के भगवान् जी "ऐसे ही लोग बनेगे .
    दूसरे प्रकार के पहले चोरी करतें हैं ,छोटी मोटी फिर जेल जातें हैं .देश का सौभाग्य है ,ईश की अनुकम्पा है देश पहले वर्ग के लोगों के हाथ में है ,वरना चोर उचक्कों ,गैर -प्रशिक्षित ,क़ानून से खौफ खाने वाले धर्म भीरुओं की हाथ में आ जाता .ज्योति मिश्रा ,जैयती .
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    Wednesday, August 10, 2011
    पोलिसिस -टिक ओवेरियन सिंड्रोम :एक विहंगावलोकन .
    व्हाट आर दी सिम्टम्स ऑफ़ "पोली -सिस- टिक ओवेरियन सिंड्रोम" ?


    सोमवार, ८ अगस्त २०११



    What the Yuck: Can PMS change your boob size?

    http://sb.samwaad.com/
    ...क्‍या भारतीयों तक पहुंच सकेगी जैव शव-दाह की यह नवीन चेतना ?
    Posted by veerubhai on Monday, August ८
    बहुत अच्छा काम कर रहें हैं आप .बधाई .

    ReplyDelete
  11. कमाल का लिखा है!!

    ReplyDelete
  12. ज्योति आपकी तवज्जो के लिए सूचनार्थ भेज रहा हूँ .
    कृपया यहाँ भी आपकी मौजूदगी अपेक्षित है -http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/2011/08/blog-post_9034.हटमल
    Friday, August 12, 2011
    रजोनिवृत्ती में बे -असर सिद्ध हुई है सोया प्रोटीन .

    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    बृहस्पतिवार, ११ अगस्त २०११
    Early morning smokers have higher cancer रिस्क.

    ReplyDelete
  13. सुन्दर अभिव्यक्ति के साथ भावपूर्ण कविता लिखा है आपने! शानदार प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  14. Jyoti,

    JAB TAK HUM IS CHALTAA HAI ATTITUDE SE NIKLEINGE NAHIN TAB TAK HUM AAGE NAHIN BARH SAKTE.

    Take care

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर सारगर्भित रचना , सुन्दर भावाभिव्यक्ति , आभार

    ReplyDelete
  16. सच है आपका कहना ... अभी भी कुछ नहीं दिग्दा संभाला जा सकता है ... कहीं देर न हो जाए ...

    ReplyDelete
  17. मेरी घरेलु भाषा भोजपुरी है.. इच्छा हुई की भोजपुरी में प्रतिक्रिया दूँ...

    बहुत बढ़िया लिखले बनी.. आभार.. राउर प्रतिक्रिया के हमरो बा इंतिजार.. एक बेर जरूर आइब.. राउर स्वागत बा...

    ReplyDelete